निकिता तोमर: हत्यारे तौसीफ का विधायक चाचा बोले; ये लव जिहाद नहीं है, क्योंकि हमारे यहां तो…

निकिता तोमर

फरीदाबाद। हरियाणा के बल्लभगढ़ इलाके में छात्रा निकिता तोमर की हत्या के बाद मुख्य आरोपी के परिवार ने इस मामले में लव जिहाद का ऐंगल होने से इनकार किया है। आरोपी के चाचा और बीएसपी के विधायक जावेद ने कहा है कि इस मामले में लव जिहाद का कोई भी विषय नहीं है, लेकिन जो भी दोषी है उसे सजा मिलनी चाहिए। पूर्व में ऐसे आरोप लगाए गए हैं कि निकिता की हत्या तौसीफ नाम के लड़के ने की है, जो कि उसपर धर्म परिवर्तन का दबाव बना रहा था।

आरोपी के चाचा जो कि बहुजन समाज पार्टी के एक विधायक भी हैं, उन्होंने कहा कि जहां तक धर्म परिवर्तन का मामला है, ये वो लोग करते होंगे जो धर्म के बारे में नहीं जानते हों। हम उस परिवार से ताल्लुक रखते हैं वहां हिंदू परिवार का ज्यादा सहयोग रखता है। मेरा परिवार सारे धर्मों की इज्जत करने वाला परिवार है। वो लोग जो कह रहे हैं वो सही है और उनमें गुस्सा है। मैं उनको गलत नहीं कह रहा। जो मुल्जिम है उसे सजा मिलनी चाहिए, क्योंकि गलत काम करने वाला किसी का बेटा नहीं होता, वो सिर्फ एक अपराधी होता है।

Marwad Education Barmer

आरोपी के दादा और चाचा कांग्रेस के नेता


सोमवार को बल्‍लभगढ़ में बीकॉम छात्रा निकिता तोमर की दिनदहाड़े हत्‍या कर दी गई थी। सीसीटीवी में दर्ज पूरी घटना जब सामने आई तो आरोपी के कांग्रेस विधायक का रिश्‍तेदार होने की बात पता चली। गिरफ्तार तौसीफ की उम्र 21 साल है। आरोपी फिजियोथैरेपी का कोर्स कर रहा है। दूसरा आरोपी रेहान मेवात का रहने वाला है। तौसीफ के दादा कबीर अहमद विधायक रह चुके हैं। उसके चाचा खुर्शीद अहमद हरियाणा के पूर्व मंत्री रहे हैं। नूंह से कांग्रेस विधायक आफताब अहमद उसके चचेरे भाई हैं। परिवार का आरोप है कि तौसीफ ने कई बार निकिता पर धर्मपरिवर्तन कराने का दबाव बनाया था।

तौसीफ के घरवालों ने 2018 में दबाव बनाकर वापस कराया था केस


तौसीफ और निकिता दोनों फरीदाबाद के एक स्‍कूल में साथ पड़े थे। निकिता 12वीं की बोर्ड टॉपर्स में थी और सिविल सविर्सिज एग्‍जाम की तैयारी कर रही थी। 2018 में स्‍कूल खत्‍म होने के बाद दोनों अलग-अलग कॉलेज में पढ़ने लगे। पुलिस के अनुसार, उसी साल तौसीफ ने निकिता का अपहरण किया था। मामला दर्ज हुआ था लेकिन पंचायत के बाद वापस ले लिया गया। निकिता के परिवार का आरोप है कि उनपर तौसीफ के रिश्‍तेदारों ने दबाव बनाया था। नूंह में तौसीफ के परिवार का दबदबा है और निकिता के परिवार को भरोसा दिया गया था कि तौसीफ आगे कुछ नहीं करेगा।