हाथरस मामला: सुप्रीम कोर्ट ने कहा- CBI जांच की निगरानी इलाहाबाद हाईकोर्ट करेगा

हाथरस मामला

हाथरस मामला: हाथरस के बुलगढ़ी गांव में दलित युवती से कथित गैंगरेप और हत्या के मामले में दायर अर्जियों पर सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को फैसला सुना दिया। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इस मामले में सेंट्रल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (CBI) की जांच की निगरानी इलाहाबाद हाईकोर्ट करेगा।

चीफ जस्टिस एसए बोबडे की बेंच ने कहा, “जहां तक इस केस को दिल्ली ट्रांसफर करने का सवाल है तो, पहले CBI अपनी जांच पूरी कर ले, उसके बाद केस ट्रांसफर पर फैसला लेंगे। CBI अपनी स्टेटस रिपोर्ट इलाहाबाद हाईकोर्ट में पेश करेगा। पीड़ित के परिवार और गवाहों की सुरक्षा समेत इस केस से जुड़े सभी पहलुओं को इलाहाबाद हाईकोर्ट ही देखेगा।”

हाईकोर्ट के आदेश से पीड़ित का नाम हटेगा
सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद हाईकोर्ट से कहा है कि वह हाथरस केस से जुड़े अपने एक आदेश में से पीड़ित का नाम हटा दे। उत्तर प्रदेश सरकार ने इसकी अपील की थी।

15 अक्टूबर को हुई सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने फैसला रिजर्व रख लिया था। इस मामले में पीड़ित परिवार की वकील सीमा कुशवाह और वकील इंदिरा जय सिंह ने अर्जियां लगाई थीं। उन्होंने CBI जांच की निगरानी सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड या मौजूदा जज से करवाने, केस दिल्ली ट्रांसफर करने और पीड़ित परिवार-गवाहों को UP पुलिस की बजाय केंद्रीय सुरक्षाबलों की सिक्योरिटी दिलवाने की अपील की थी।

Marwad Education Barmer

पीड़ित परिवार और गवाहों को मिली है सुरक्षा
पीड़ित परिवार और गवाहों को UP सरकार ने तीन स्तर की सुरक्षा दी है। गवाहों और पीड़ितों के घर में CCTV लगाए गए हैं। नाके पर और घर के बाहर पुलिस का पहरा है। इसके अलावा सरकार ने CRPF से भी सुरक्षा दिलवाने का भरोसा दिया है।

क्या है पूरा मामला?
हाथरस जिले के चंदपा इलाके के बुलगढ़ी गांव में 14 सितंबर को 4 लोगों ने 19 साल की दलित युवती से कथित गैंगरेप किया था। आरोपियों ने युवती की रीढ़ की हड्डी तोड़ दी और उसकी जीभ भी काट दी थी। दिल्ली में इलाज के दौरान 29 सितंबर को पीड़ित की मौत हो गई। मामले में चारों आरोपी गिरफ्तार कर लिए गए। हालांकि, पुलिस का दावा है कि दुष्कर्म नहीं हुआ था। UP सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में दिए एफिडेविट में भी यह बात कही थी।

इस मामले में योगी सरकार ने ही CBI जांच की सिफारिश की थी। 11 अक्टूबर को CBI की गाजियाबाद यूनिट ने चंदपा कोतवाली में दर्ज केस के आधार पर मुख्य आरोपी संदीप पर मामला दर्ज किया। 17 दिनों में अब तक CBI पीड़ित और आरोपियों के परिवार वालों से पूछताछ कर चुका है।